Close X
Wednesday, August 17th, 2022
Close X

EC सदस्यों ने कुलपति और रजिस्ट्रार की आपात बैठक में लगाई क्लास

राजभवन ने प्रो अच्छेलाल की सेवाएं समाप्त करने के दिये आदेश
भोपाल
बरकतउल्ला विश्वविद्यालय के राजभवन से आये एक पत्र ने काफी बवाल मचा दिया है। इसमें एक प्रोफेसर की सेवाएं समाप्त करने और नियुक्तियोंं में हुई गडबडी के खिलाफ कार्रवाई करने के लिये आदेशित किया गया है। कुलपति और रजिस्ट्रार कार्रवाई करने की वजाय मुंह छिपा रहे हैं। इसी के चलते मंगलवार को बुलाई गई बैठक में ईसी सदस्यों ने रजिस्ट्रार और कुलपति की क्लास लगाकर जमकर खिचाई की गई।

बीयू में मंगलवार को ईसी की आपातकाल बैठक बुलाई गई। बैठक का एजेंडा किसी भी सदस्य को नहीं दिया। इससे लेकर सभी सदस्य रजिस्ट्रार आईके मंसूरी और कुलपति प्रो. आरजे राव से नाराज थे। क्योंकि एजेंडे को सीधे सूचना पटल पर रखने की सूचना दी गई थी। इससे सभी सदस्य काफी बेचैन थे कि ऐसी क्या मुश्किल आई, जिसके कारण आपात बैठक बुलाई गई और एजेंडा देना जरूरी नहीं समझा गया। तब रजिस्ट्रार आईके मंसूरी ने राजभवन का पत्र ईसी सदस्यों के सामने रखा और एजेंडे को पटल पर रखा गया। इसे लेकर ईसी सदस्य किशन सूर्यवंशी और मनोरंजन मिश्रा ने रजिस्ट्रार मंसूरी और कुलपति राव को आडे हाथ लिया। वे ईसी सदस्यों द्वारा लगाये गये आरोपों का सामना तक नही कर सकें। यहां तक उन्होंने आरोप लगाया कि रजिस्ट्रार मंसूरी और कुलपति ईसी सदस्यों का गुमराह करने में कोई कसर नही छोडते है। ईसी सदस्यों ने कडाके ठंड में रजिस्ट्रार मंसूरी और कुलपति राव के पसीने छूटा दिये।

राजभवन ने छह साल पहले बीयू में हुई भर्ती को लेकर कार्रावाई करने के लिये छह बिंदुओं पत्र भेजा था। रजिस्ट्रार मंसूरी और कुलपति राव ईसी सदस्यों को गुमराह कर कार्रवाई करने से बच रहे हैं। इसलिये एजेंडा और पत्र ईसी सदस्यों को नहीं बताये गये थे। पत्र में पूर्व आईएएस अरुण गुर्टू की जांच रिपोर्ट के तहत बीयू कुलपति को कार्रवाई करने के लिये आदेशित किया गया है। इसमें सबसे पहले छह साल पहले तत्कालीन कुलपति मुरलीधर तिवारी द्वारा कराई गई भर्ती में प्रोफेफेसर अच्छेलाल की सेवाएं समाप्त करने को गया है।

भर्ती के दौरान दस्तावेजों की छानबीन करने वाली कमेटी के अध्यक्ष और सदस्यों के खिलाफ कार्रवाई, तत्कालीन रजिस्ट्रार के खिलाफ कार्रवाई, बीयू में नियुक्त सहायक निदेशक अरविंद्र कुमार को एंक्रीमेंट देने वाले रजिस्ट्रार के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा गया है। ईसी सदस्यों ने बैठक में सभी दस्तावेज नहीं होने के कारण कार्रवाई को आगामी बैठक के लिये टाल दिया है। राजभवन ने प्रो. अच्छेलाल को बर्खाश्त कर एक माह के अंदर सूचित करने को कहा है। इसलिये बीयू को जल्द ही ईसी बैठक बुलाकर कार्रवाई करना होगी।

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

11 + 12 =

पाठको की राय